Aye Mere Watan Ke Logon | Lata Mangeshkar | Independence Day Songs

Aye Mere Vatan Ke Logon Lyrics from Independence Day Songs :

Aye mere vatan ke logon, tum khub laga lo naara
Yeh shubh din hai ham sab kaa, lahara lo tiranga pyaara
Par mat bhulo sima par, viron ne hai pran ganvaaye
Kuchh yaad unhe bhi kar lo – (2)
Jo laut ke ghar naa aaye – (2)
(Aye mere vatan ke logon, jara aankh me bhar lo paani
Jo shahid huye hain unaki, jara yaad karo kurbaani) – 2

Jab ghaayal huwa himalay, khatare me padi aajaadi
Jab tak thi saans lade woh – 2, phir apni laash bicha di
Sangeen pe dhar kar maatha, so gaye amar balidaani
Jo shahid huye hain unaki, jara yaad karo kurbaani

Jab desh me thi diwali, woh khel rahe the holi
Jab ham baithe the gharo me, woh jhel rahe the goli
The dhanya javaan woh aapane, thee dhanya woh unaki javaani
Jo shahid huye hain unaki, jara yaad karo kurbaani

Koyi sikh koyi jaat maratha – 2, (koyi gurakha koyi madaraasi) – 2
Sarahad pe maranewala – 2, har veer tha bhaaratavaasi
Jo khun gira parvat par, woh khun tha hindustani
Jo shahid huye hain unaki, jara yaad karo kurbaani

Thi khun se lath path kaaya, phir bhee banduk uthaake
Das das ko ek ne maara, phir gir gaye hosh ganvaake
Jab ant samay aaya toh – 2, kah gaye ke abb marate hain
Khush rahana desh ke pyaaro – 2, (abb ham toh safar karate hain) – 2
Kya log the woh diwaane, kya log the woh abhimaani
Jo shahid huye hain unaki, jara yaad karo kurbaani
Tum bhul naa jaao unako, iss liye kahee yeh kahaani
Jo shahid huye hain unaki, jara yaad karo kurbaani
Jay hind, jay hind ki sena – (2)
Jay hind, jay hind, jay hind

In Hindi :

ऐ मेरे वतन् के लोगो! तुम खूब लगा लो नारा !
ये शुभदिन है हम सबका! लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर! वीरों ने है प्राण गँवाए!
कुछ याद उन्हें भी कर लो -२! जो लौट के घर न आए -२
ऐ मेरे वतन के लोगो! ज़रा आँख में भरलो पानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |प|
जब घायल हुआ हिमालय! खतरे में पड़ी आज़ादी!
जब तक थी साँस लड़े वो! फिर अपनी लाश बिछादी
संगीन पे धर कर माथा! सो गये अमर बलिदानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |१|
जब देश में थी दीवाली! वो खेल रहे थे होली!
जब हम बैठे थे घरों में! वो झेल रहे थे गोली
थे धन्य जवान वो अपने! थी धन्य वो उनकी जवानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |२|
कोई सिख कोई जाट मराठा -२! कोई गुरखा कोई मदरासी -२!
सरहद पे मरनेवाला! हर वीर था भारतवासी
जो ख़ून गिरा पर्वत पर! वो ख़ून था हिंदुस्तानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |३|
थी खून से लथपथ काया! फिर भी बन्दूक उठाके!
दस-दस को एक ने मारा! फिर गिर गये होश गँवा के
जब अन्त समय आया तो! कह गये के अब मरते हैं!
ख़ुश रहना देश के प्यारो -२! अब हम तो सफ़र करते हैं -२
क्या लोग थे वो दीवाने! क्या लोग थे वो अभिमानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी |४|
तुम भूल न जाओ उनको!इसलिये कही ये कहानी!
जो शहीद हुए हैं उनकी! ज़रा याद करो क़ुरबानी
जय हिन्द। जय हिन्द की सेना -२!
जय हिन्द, जय हिन्द, जय हिन्द||[3]

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *